हारों का एकमात्र सहारा दीनो का रखवाला
निर्धन का धन निर्बल का बल पांडव कुल उजियारा
ऐसा श्याम हमारा, ऐसा श्याम हमारा

जग ठुकराए जिनको बाबा उनको गले लगाए
जो भी दर हार के आये उसको श्याम जिताये
ना जाने कितनी तकदीरों को है इसने संवारा
ऐसा श्याम हमारा, ऐसा श्याम हमारा
ऐसा श्याम हमारा…

बिना नब्ज़ पकडे ही बाबा रोग सही कर देता
कलयुग का अवतारी दर पे मन चाहा वर देता
पापी से भी पापी को दर पे है श्याम ने तारा
ऐसा श्याम हमारा, ऐसा श्याम हमारा
ऐसा श्याम हमारा…

तू भी शरण में आजा प्यारे क्यों भटके बंजारा
पाना है गर श्याम प्रेम तो लगा एक जयकारा
जय श्री श्याम कहा गोलू ने चमका आज सितारा
ऐसा श्याम हमारा, ऐसा श्याम हमारा

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह