जो भी, गणपति को, घर में बैठाएगा,
उसका घर, तीरथ बन जाएगा ll
^उसका घर, तीरथ बन जाएगा, xll
जो भी, गणपति को घर में,,,,,,,,,,,,,,,,,

गोरा मैया ने, उबटन से, लाला बनाया l
अपनी, शक्ति से, गोरा ने, जीवित कराया ll
उसे, द्वारपाल है बनाया,
कोई, अंदर ना, आने पाएगा,,,
जो भी, गणपति को घर में,,,,,,,,,,,,,,,,,

तभी, गौरा को मिलने, शंकर जी आए l
गौरा, मईया नहाए, कोई अंदर ना आए ll
बालक हट जाना, बार सह पाएगा,
तेरा काल, त्रिशूल बन जाएगा,,,
जो भी, गणपति को, घर में,,,,,,,,,,,,,,,,,

शिव ने, त्रिशूल से, धड़ को, अलग कर दिया l
और गौरा ने, काली का, रूप धर लिया ll
अब तो, धरती पर, वही बच पाएगा,
मेरे लाल को, शीश जो लगाएगा,,,
जो भी, गणपति को, घर में,,,,,,,,,,,,,,,,,

शिव ने, गज़ को बुलाया, शीश उसका लगाया l
यह देखकर, मां का, मन हर्षाया ll
यह बालक, गज़ानन कहलाएगा,
सब के, विघ्नों को, दूर कर पाएगा,,,
जो भी, गणपति को ,घर में,,,,,,,,,,,,,,,,,

गणपति बप्पा,,, मोरिया l
मंगल मूर्ति,,, मोरिया ll
मोरिया रे, बप्पा मोरिया रे llll

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह