विघ्नों को टालने गणराज आगये,
शिवः शम्भू गौरा माता के युवराज आगये।।

मंगलमयी है मूरत मोदक लिए हुए,
चूहे पे चढ़के जग के सरताज आगये,
विघ्नों को टालने गणराज आगये……

माथे पे सोहे चंदन त्रिशूल हाथ मे,
बुद्धि को देने वाले सरताज आगये,
विघ्नों को टालने गणराज आगये……

सोने की थाल में उन्हें मोदक खिलाएंगे,
क्योकि मेरे गजानन महाराज आगये,
विघ्नों को टालने गणराज आगये……

पांव बजे पायल कानो में कर्णफूल,
राजेन्द्र सुख व शांति के अवतार आगये,
विघ्नों को टालने गणराज आगये……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह