माँ गौरा के लाल को, प्रथम मनावा आज,
आ जाओ गौरी लाला, सब पूरण करदो काज ॥

सब देवो में सबसे पहले, पूजा तुम्हारी होती है,
जब जब तेरा नाम है लेते, बाधा दूर सब होती है,
रिद्ध सिद्ध संग में ले आओ…..सब पूरण करदो काज,
माँ गौरा के लाल को…..

महादेव की आँख के तारे, माँ गौरा के प्यारे हो,
सब भक्तो के नैन की ज्योति, तुम जहाँ से न्यारे हो,
दिल के शीशे में बिठाके…..तेरी लेउँ नजर उतार,
माँ गौरा के लाल को…..

धुप दीप से करू आरती, मोदक भोग लगाऊं जी,
कर फूलों की माला लेकर, तुमको आज चढ़ाऊँ जी,
अशोक तेरे गुणगाये, ये भक्त तेरे गुणगाये,
सब देवो के सरदार ।
माँ गौरा के लाल को, प्रथम मनावा आज,
आ जाओ गौरी लाला, सब पूरण करदो काज,
माँ गौरा के लाल को, प्रथम मनावा आज…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह