पहले गौरी गणेश मनाया करो,
फिर भोले जी के दर्शन पाया करो॥

भोले माथे पर तेरे चंदा है,
और जटा में तेरे गंगा है,
गंगा में गोता लगाया करो,
फिर भोले जी के दर्शन पाया करो॥

भोले हाथ में तेरे डमरू है,
और गले सर्पो की माला है,
डमरू की धुन पर नाचाया करो,
फिर भोले जी के दर्शन पाया करो॥

भोले अंग भभूति रमाते हो,
और तन बाघअंबर पहनते हो,
गौरा संग रास रचाया करो,
फिर भोले जी के दर्शन पाया करो॥

भोले अजब तुम्हारी माया है,
और भेद किसी ने ना पाया है,
भोले की महिमा गाया करो,
फिर भोले जी के दर्शन पाया करो॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह