( नज़रें कर्म से तेरी,
मेरी जिंदगी सँवर गई,
ख़ाली थी झोली मेरी दाता,
जो पल में भर गई। )

मेरे बिगड़े, बना दो काज़,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
अब, रख लेना मेरी लाज़,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
मेरे बिगड़े, बना दो काज़……..

तुम बुद्धि के दाता हो,
सारे जग के विधाता हो,
हो देवों के सरताज,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
मेरे बिगड़े, बना दो काज़………

मुझे तूने सँवारा है,
दिया मुझको सहारा है,
मैं दर पे खड़ा हूँ आज,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
मेरे बिगड़े, बना दो काज़……..

माँ गौरां के प्यारे हो,
और शिव के दुलारे हो,
मेरे पूर्ण करो सब काज़,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
मेरे बिगड़े, बना दो काज़……..

तेरे दर पे हम आएँगे,
और झूम के गाएँगे,
अभिषेक बिनती करत है आज,
ओ मेरे, गणपति जी महाँराज,
मेरे बिगड़े, बना दो काज़……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह