रिद्धी सिद्धी दातार तुमसे गये देवता हार,
तेरी हो रही जय जयकार गौरी शंकर के प्यारे…..

देवो में हुई लड़ाई में बड़ा हूँ तुम छोटे हो,
ब्रह्मा के पास निर्णय को आये छोटे मोटे है,
सुनकर के ब्रह्मा ने मन ही मन कियो विचार…..

बोले ब्रह्मा सृष्ठिी की परिक्रमा प्रथम लगाओ,
आए जो सबसे पहले वो परम पुरुष कहलावो,
उठ करके दौड़े है, सब हो सवार असवार…..

बोले गणेश सृष्टि के साक्षात रूप पितु माता,
इनको तज कर क्यो भटके ये देव समझ नही आता,
उठ करके, पितु मां की, करी परिक्रमा भारी…..

सबसे पहले जा करके ब्रह्मा को शीश झुकाया,
चतुराई जान पितामह हस करके कंठ लगाया,
धन्य-धन्य जय-जय हो तेरे चरण कमल बलिहारी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह