सबकी बिगड़ी बनाते हो,
देवा सबके मन भाते हो।।

महादेव के लाडले हो,
गौरा मईया के तारे हो,
महादेव जी के चरणों में,
गौरा मईया जी के चरणों में,
देवा शीश झुकाते हो ।।

रिद्धि सिद्धि के स्वामी,
सबपे किरपा बरसाते हो,
दुःख हरता कहलाते हो,
दुःख को जड़ से मिटाते हो ।।

दर से खाली कोई भी देवा के ना जाता है,
भर के झोली खुशियों से देवा के गुण गाता है,
बिटिया ‘प्रियंका’ पर देवा अपनी किरपा बरसाते हो ।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह