( गजवदन गिरिजा ललन तुम हमें वरदान दो,
कंठ में हो वास तेरा साज में आवाज दो। )

बिगड़ा नसीबा अपना बनाने,
नैया अपनी पार लगाने,
आ गये आ गये,
तेरे दर पे दीवाने आ गए,
तेरे दर पे दीवाने आ गए…..

दयावान हो दया लुटाओ,
एक दन्त भगवान,
एक दन्त भगवान,
हरो अमंगल करदो मंगल,
हो जाये कल्याण,
हो जाये कल्याण…..

ज्ञान के दाता भाग्य विधाता,
उमा की तुम संतान,
अँधियारा मिट जाये दुखो का,
जीवन हो आसन,
जिसने भी देवा दिल से पुकारा,
ओ मन की मुरादे पा गया,
तेरे दर पे दीवाने आ गए,
तेरे दर पे दीवाने आ गए…..

हे जगवंदन हे शिवनंदन हे गौरा के लाल,
जुगनू जैसे नैन तुम्हारे, माया बड़ी कमाल,
देव भाव से करे जो सुमिरन, करे उसे निहाल,
रूप निराला अद्भुद लागे, ऐसा अजब कमाल,
जिसने भी डाला तेरे चरणों में डेरा, वो दुनिया में छा गए,
तेरे दर पे दीवाने आ गए,
तेरे दर पे दीवाने आ गए…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह