( प्रथमे गौराजी को वंदना
द्वितीये आदि गणेश
त्रितिये सिमरु माँ शारदा
मेरे काटो सकल कलेश। )

जय हो गजानना,
जय हो गजानना…..

हो जय हो तेरी गणराज,
गजानन..
प्रथम पूज्य तुम देव हो देवा,
देवो के महाराज,
जय हो तेरी गणराज,
गजानन….

सारी दुनिया में तुमसा ना दूजा कोई,
जो भी आशा करी पूरी तुम से हुई,
मंगलकर्ता विघ्न हरईया,
पूरण करते काज,
जय हो तेरी गणराज,
गजानन….

मांगे दरसे तुम्हारे तो सबकुछ मिले,
सबका आँगन ख़ुशी से है फुले फले,
तीनो लोक के स्वामी हो तुम,
देवो के सरकार,
जय हो तेरी गणराज,
गजानन….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह