आइये आइये हो बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे……

तेरे नाम की खटक लगी मैं,
मेंहदीपुर में आया,
नहा धो क न पढुँ चालिसा,
सच्चा ध्यान लगाया,
तेरा प्यारा सा सजया दरबार,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे……

तेरी मस्ती में पागल हो गया,
राम ही राम पुकारूं मैं,
तेरे बिना कोए साहरा कोनया,
धरती में सिर मारूं,
मैं तन्नै कद का रहया हो पुकार,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे…….

सवामणी मन्नै तेरी लाई,
घाटे आले बाला जी,
चौबीस घंटे राम पुकारूं,
ले तलसी की माला जी,
तेरा रस्ता हो रहया हुँ निहार,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे…….

तेरे नाम का जगराता हो,
कौशिक मन्नै बुलाया हो,
अशोक भक्त तन्नै बालाजी,
चरणां का दास बणाया हो,
तेरा सेवक बैठया हो,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे…….

आइये आइये हो बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे……

तेरे नाम की खटक लगी मैं,
मेंहदीपुर में आया,
नहा धो क न पढुँ चालिसा,
सच्चा ध्यान लगाया,
तेरा प्यारा सा सजया दरबार,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे……

तेरी मस्ती में पागल हो गया,
राम ही राम पुकारूं मैं,
तेरे बिना कोए साहरा कोनया,
धरती में सिर मारूं,
मैं तन्नै कद का रहया हो पुकार,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे…….

सवामणी मन्नै तेरी लाई,
घाटे आले बाला जी,
चौबीस घंटे राम पुकारूं,
ले तलसी की माला जी,
तेरा रस्ता हो रहया हुँ निहार,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे…….

तेरे नाम का जगराता हो,
कौशिक मन्नै बुलाया हो,
अशोक भक्त तन्नै बालाजी,
चरणां का दास बणाया हो,
तेरा सेवक बैठया हो,
घाटे की तीन पहाड़ी पे,
आइये आइये हों बालाजी,
एक बार घाटे की तीन पहाड़ी पे…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह