तुम हो दया के सागर,
क्या बात है तुम्हारी,
कृपा जो तुम करो तो,
मिट जाए विपदा सारी,
गौरी सुत गण नायक,
विनायक गजमुख धारी,
तुम हो दया के सागर….

सद्गुणों से बनी है,
गणराज तुम्हारी काया,
संसार में किसी ने,
पार ना इसका पाया,
जिसने भी देखा तुमको,
वो हो गया बलिहारी,
तुम हो दया के सागर….

विघ्नों को हरने वाले,
दुख हमारे भी हरना,
सुखों को देने वाले,
सुख जीवन में भरना,
शुभ लाभ उसे है मिलता,
जो आए शरण तुम्हारी,
तुम हो दया के सागर….

प्रथम हो पूजे जाते,
हो तुम प्रथम देव हमारे,
दीन हीन दुखियों के,
हो तुम्हीं तो सहारे,
सहारा हमें भी दे दो,
सहारा राजीव को दे दो,
है अरदास ये हमारी,
तुम हो दया के सागर….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह