ऐसी पूंछ घुमाई हनुमत ने,
लंकापुरी घबराई रे, मेरा राम दुलारा

सीता की सुध लेने गए प्रभु,
लंका पहुंचा जाए रे, मेरा राम दुलारा….

सोने की लंका खाक में मिला दई,
रावण मन घबराया रे, मेरा राम दुलारा…..

लंका फूंक सीता ढिग आए,
सीता मन हरसाई रे, मेरा राम दुलारा….

सीता मां से यह बर पाया,
तू अजर अमर कहलाए रे, मेरा राम दुलारा…..

एक पेड़ तुलसी का देखा,
विभीषण की कुटिया बचाई रे, मेरा राम दुलारा….

माता की सुध लाऐ पवनसुत,
रघुवर को आए बताई रे, मेरा राम दुलारा…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह