कैसा रंग रंगीला हो राम हनुमान तेरा,
हनुमान तेरा हनुमान तेरा……

एक दिन अवधपुरी में आये,
खुद नाचे और राम नचाये,
वो तो बड़ा रसीला हो राम हनुमान तेरा,
कैसा रंग रंगीला हो राम हनुमान तेरा…..

राम नाम का बाजे डंका,
जा फुकी रावण की लंका,
वो तो बड़ा हठीला हो राम हनुमान तेरा,
कैसा रंग रंगीला हो राम हनुमान तेरा…..

लंका बिच लंकनी मारी,
दर कर भागे सब नर नारी,
करी ऐसी लीला हो राम हनुमान तेरा,
कैसा रंग रंगीला हो राम हनुमान तेरा…..

सब दुश्मन के बिच दहाड़े,
फल खाये और बाग़ उजाड़े,
को नक्शा धिलाला ढिल्ला हो राम हनुमान तेरा,
कैसा रंग रंगीला हो राम हनुमान तेरा…..

कृष्ण लाल गजब का डाला,
बजरंग बाला तेरा खेल निराला,
करदा छंद कटीला हो हो राम हनुमान तेरा,
कैसा रंग रंगीला हो राम हनुमान तेरा…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह