कैसी तुम्हारी सवारी चूहा बड़े उत्पाती,
बड़े उत्पाती चूहा बड़े उत्पाती,
माने ना बात जरा भी चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी……

आटा भी खा गए मेरा चावल भी खा गए,
खा गए दाल चना की चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी…..

मंदिर में घी की बाती खा गए,
मोदक और चूरमा भी चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी……

मेवा मिठाई सब कुछ खा जाते,
खा खा हो रहे हाथी चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी…..

चूहे के मम्मी पापा, दादा और दादी,
आ गए पोते नाती चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी……

एक के संग में दो-दो चले आते,
बिना बुलाए बाराती चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी….

जब चूहे का मैंने दर्शन कीना,
भर गए खाली भंडार भी चूहा बड़े उत्पाती,
कैसी तुम्हारी सवारी….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि

संग्रह