कर ना सके जो कोई भी,
करके दिखा दिया,
सेवक ने अपने स्वामी पे,
नौकर ने अपने मालिक पे,
कर्जा चढ़ा दिया……

सीता से राम बिछड़े है,
रोए बिलख बिलख कर,
मिल ना सके जो जीवन भर,
मिल ना सके जो जीवन भर,
पल में मिला दिया,
कर ना सकें जो कोई भी,
करके दिखा दिया,
सेवक ने अपने मालिक पे,
कर्जा चढ़ा दिया……

लक्ष्मण का हाल देखिये,
दुनिया से जा रहे है,
दीपक जो बुझने जा रहा,
दीपक जो बुझने जा रहा,
फिर से जला दिया,
कर ना सकें जो कोई भी,
करके दिखा दिया,
सेवक ने अपने मालिक पे,
कर्जा चढ़ा दिया……

रहते थे राम महलों में,
वनवासी हो गए थे,
बनवारी फिर अयोध्या का,
बनवारी फिर अयोध्या का,
राजा बना दिया,
कर ना सकें जो कोई भी,
करके दिखा दिया,
सेवक ने अपने मालिक पे,
कर्जा चढ़ा दिया……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह