रिंंगस से निशान उठा के, मस्ती में तूफान मचाके, तेरी जय जैकार बुला के, पैदल खाटू आएंगे।
सुन लेना रे बाबा सब की अब की बार जो आएंगे।।

1- यूं तो तू सुनता है सबकी,
जिसने लगा दी दर पर अर्जी
हम भी भाग्य आजमाएंगे
सुन लेना रे बाबा सब की अब की बार जो आएंगे।।

2- छोटे-छोटे बच्चे नाचे
जोश जवानों का देख तू आके
बूढ़े भी थक ना पाएंगे।
सुन लेना रे बाबा सब की अब की बार जो आएंगे।।

3- बोले किंशुक सुनो रे साथी
बाबा दूल्हा हम बाराती
प्रकाश सेहरा सजाएंगे ।
सुन लेना रे बाबा सब की अब की बार जो आएंगे।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह