मुझको राम जी माफ करना लंका धोखे में जल गई…..

भूख लगी तो फल मैंने खाऐ,
लंका निश्चर मारने आए,
पूछ मे मेरी आग लगाई,
तब ही हवा ये चल गई,
मुझको राम जी माफ करना लंका धोखे से जल गई…….

मारता तो प्रभु आज्ञा लेता,
उनकी खाट खड़ी कर देता,
मार ना पाया लंकापति को,
नाथ बात ये खल गई,
मुझको राम जी माफ करना लंका धोखे में जल गई……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह