जय हनुमान जय हनुमान जय हनुमान जय हनुमान,
दो अपनी शरण मे ठौर प्रभू, हमे चहिए ना कुछ और प्रभू,
तुम अति प्यारे हो राम सिया के, भक्तन के सिर मौर प्रभू,
राम सिया के भक्त महान जय बजरंगी जय हनुमान…….

सब कष्ट रहित हो जाता है वो तुम जिसको अपनाते हो,
सब सुख वो पा जाता है तुम जिसको गले लगाते हो,
हम मंद-बुद्धि बल-हीन हमारा, तुम बिन कोई न और प्रभू,
तुम अति प्यारे हो राम सिया के, भक्तन के सिर मौर प्रभू……….

जब जब हम असहाय हुए तब तब तुम्हीं सहाय हुए,
कृपा मेघ बन हम सब पर हो बजरंगी तुम छाए हुए,
जोर जोर मन तुम्हें पुकारे जब दुःख घेरे घनघोर प्रभू,
तुम अति प्यारे हो राम सिया के, भक्तन के सिर मौर प्रभू……

दुष्टन सहित जराई लंका, क्षण में खबर सिया की लाये,
लाय सजीवनि मलयागिरि से तुम लक्ष्मण के प्राण बचाए,
कष्ट कोई ना हमको घेरे, तुम देखो कर के गौर प्रभू,
तुम अति प्यारे हो राम सिया के, भक्तन के सिर मौर प्रभू….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह