जाके सिर पे हाथ म्हारे श्याम धनी को होवे है,
बांको बाल न बांको होवे है…

कलयुग में बाबा का, घर घर बजे डंका, बड़ो बलकारी है,
जो भाव से ध्यावे, पल भर में है आवे, करे ना देरी है,
जा का जैसा भाव, बाबो वैसो ही फल देवे है,
बांको बाल न बांको होवे है,
जाके सिर पे हाथ….

एक बार जावोगा, हर साल जावोगा, बाबा के मेले में,
आनंद ही आनंद, अमृत की हो बर्षा, बाबा के मेले में,
लेकर एको नाम, जो भी पैदल खाटू जावे है,
वो बेठ्यो मौज उड़ावे है,
जाके सिर पे हाथ….

दुनिया की मस्ती में, मत भूल बाबा ने, यु ही तेरे काम को,
जइया मनावोगा, यो मान जावेगो, भूखो है थारे भाव को,
श्याम को आशीर्वाद, ‘शुभम रूपम’ जाके होवे है,
वो तान के खुटी सोवे है,
जाके सिर पे हाथ….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह