फिलहाल जन्म में मैंने इतना कर्म कमाया है,
मेरी मां ने मुझको खाटू का रास्ता दिखाया है…….

चंदन है यहां की माटी अमृत है यहां का नीर,
यह दोनों मुझे मिले हैं मेरी बहुत बड़ी तकदीर,
मुख देख मेरे बाबा का, चंदा भी शरमाया है,
मेरी मां ने मुझको………

खाटू में मुझको बाबा घर जैसा प्यार मिले,
तेरे चरणों की फुलवारी में मेरा परिवार खिले,
मुझ जैसे नालायक को, लायक बनाया है,
मेरी मां ने मुझको………

जब तक मेरी सांस चलेगी करता रहूं गुणगान,
तुमसे ही इज्जत मेरी तुमसे मेरी पहचान,
मेरे भजनों का सागर, तुमसे गहराया है,
मेरी मां ने मुझको………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह