मिलने तुझसे आये बाबा सुनले खाटूवाले,
कहती दुनिया सारी तुम हो हारे के सहारे,
मिलने तुझसे आये……..

सबने सताया मुझे सबने रुलाया,
मन की कभी अपने मैं कह ना पाया,
अपने जो भी थे हुए सब पराये,
दुःख में रोबिन के ना कोई काम आये,
फिर एक दिन तब किसी ने बताया,
जा खाटू तू अब वहां सबने पाया,
आया हूँ जो दर पे तेरे दूर करो अंधियारे,
कहती दुनिया सारी तुम हो हारे के सहारे,
मिलने तुझसे आये……….

मन से थी एक दिन ये आवाज़ आई,
कहाँ वो अदालत जहाँ हो सुनाई,
लाखों की किस्मत जो तुमने बनाई,
करी आस तुमसे लगन है लगाईं,
नज़रें हो मुझ पर अगर श्याम तेरी,
आकाश छू लू ये दुनिया हो मेरी,
करवा दो अब कीर्तन घर में मेटो कष्ट हमारे,
कहती दुनिया सारी तुम हो हारे के सहारे,
मिलने तुझसे आये………..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा

संग्रह