मुझे शरण तुम्हारी सांवरिया,
मेरा और कोई संसार नहीं,
मुझे एक भरोसा है तुम पर,
मेरा और कोई दातार नहीं,
मुझे शरण तुम्हारी……

मैं दास तुम्हारा हूँ बाबा,
कहीं और क्यूँ मैं फ़रियाद करूँ,
तुम हर एक सांस में हो मेरी,
क्यूँ और किसी को याद करूँ,
ये तन मन आपको अर्पण है,
किसी और का कुछ अधिकार नहीं,
मुझे शरण तुम्हारी……

कोई क्या कहता मुझको बाबा,
इसका मुझको अफ़सोस नहीं,
मुझको विश्वास यही हर पल,
तुम बैठोगे खामोश नहीं,
तुम सारे जहाँ से कह देना,
मेरा सेवक है लाचार नहीं,
मुझे शरण तुम्हारी…….

बस ये एहसास रहे मुझको,
मैं बालक हूँ तुम नाथ मेरे,
मैं हर विपदा से लड़ लूंगा,
तुम रखना सर पर हाथ मेरे,
पंकज को सब मंज़ूर प्रभु,
कम करना अपना प्यार नहीं,
मुझे शरण तुम्हारी……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह