चिन्तन करो, न चिन्ता करो, शिव शिव कहते रहो।
बस जिंदगी का है यह सार यही, अब भी समय जान लो।।

कण कण में है हर मन में है, सत्यं शिवं सुन्दरम्।
बाहर कहाँ तू ढूंढे उसे, ढूंढं ले मन मन्दिरम्।।
वो तो सदा है साथ तेरे, अब भी समय जान लो।
चिन्तन करो, न ……

वेदों पुराणों में ग्रन्थों में वो, आद अविनाशी है वो।
सीधा सादा भोला भाला है वो, मिलता है भगती से वो।।
इसकी शरण में सब सुख मिलें, अब भी समय जान लो।
चिन्तन करो, न ……

जीवन यह बार बार मिलता नहीं, हर पल की कीमत बड़ी।
स्वांस लड़ी में पिरोले इसे, टूटे ‘‘मधुप’’ न लड़ी।।
करूणामयी यह दयालु बड़ा, अब भी समय जान लो।
चिन्तन करो, न ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह