इन आँखों में सूरत है तेरी ,
मन मंदिर में मूरत है तेरी।

होंठों पे नाम है तेरा ,
साँसों में तू है बसा ,
सुन अविनाशी ,सुन कैलाशी ,
सुन गौरी के भोले पिया।
इन आँखों में…..

त्रिनेत्र धारी तू है ,तू नीलकंठ कहलाये ,
पहने सर्प की माला और अंग बभूती लगाये,
पीके भंग प्याले,वर दे डाले ,
ओ गौरी के भोले पिया -2
इन आँखों में…..

तू है सब का दाता,तू है सबका पालनहारा ,
तेरी दया का भगवन ना था ,ना है कोई किनारा ,
धूप कहीं छाया सब तेरी है माया ,
ओ गौरी के भोले पिया -2
इन आँखों में…..

होंठों पे नाम है तेरा ,
साँसों में तू है बसा ,
सुन अविनाशी ,सुन कैलाशी ,
सुन गौरी के भोले पिया

हर हर महादेव

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी

संग्रह