तेरा द्वार है कितना प्यारा, मन नहीं भरता देख नजारा
तेरे दर्श की लगन में, हमें आना पड़ेगा खाटू में दोबारा ।
तेरा द्वार है कितना प्यारा………

जैसा तेरा नाम है, वैसा ही तेरा धाम-2
जो भी आता है यहाँ, उसके हों सब काम-2
नाम उसी का, जीवन है जो, तेरे दर पे गुजारा
हमें आना पड़ेगा खाटू में दोबारा, तेरा द्वार है ……

जब ग्यारस की रात को, होता तेरा शृंगार-2
चाँद भी फीका सा लगे, चमके रूप अपार-2
बढ़ती जाए, ये बैचैनी, जितना करूँ नज़ारा
हमें आना पड़ेगा खाटू में दोबारा, तेरा द्वार है ……

श्याम कुंड की क्या कहें, ऐसी निर्मल धार-2
जन्नत से भी सुन्दर है, तेरा तोरण द्वार-2
चौक कबूतर, कढ़ी कचौड़ी, देखा “पाल” नज़ारा
हमें आना पड़ेगा खाटू में दोबारा, तेरा द्वार है ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह