तेरी दीवानी राधा रानी कबसे निहारे थोर,
जब देखो जाए कान्हा जी सौतन बंसुरिया की ओर……..

सारा सारा दिन तू तो अधरों को ऐसे चुमती रहती बंसुरिया,
लिपट कमरिया से कान्हा के ऐसे घूमती रहती बंसुरिया,
लाज नहीं आती क्या तुझको सुन ओह बनवारिया,
तू मेरी सौतन बाँसुरिया, मेरी बैरन बाँसुरिया……..

तूने मेरे मोहन पे कैसा जादू डाला,
मेरा कन्हैया बन गया देखो मुरली वाला,
एक तेरे कारण दूर हुआ है मुझसे सांवरिया,
तू मेरी सौतन बाँसुरिया, मेरी बैरन बाँसुरिया………

सुन ओह मेरी प्यारी राधा, क्यूँ इतना घबराती है,
मेरी तो हर एक सांस तेरा ही बस गीत सुनाती है,
अधरों पे बेशक है पर दिल में मेरी तू गुजरिया,
नहीं है सौतन बंसुरिया, न है बैरन बंसुरिया…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह