अयोध्या राम की है
वहाँ राम विराजेंगे।
हम भगवाधारी है
बस राम ही गायेंगे।।
मेरे राम के स्वागत मे
अयोध्या को सजायेंगे…

पलके भी बिछा दी है
बड़ी राह निहारी है…
रघुवर चले आओ
मेरे राम चले आओ
फूल राहों मे बिछायेंगे…
मेरे राम के स्वागत मे
अयोध्या को सजायेंगे…

सियावर गद्दी तुम्हारी है
अयोध्या भी तुम्हारी है..
मेरे राम तिलक करदूँ
रघुवर मे तिलक करदूँ
दिन त्रेता युग के आयेंगे
मेरे राम के स्वागत मे
अयोध्या को सजायेंगे…

दिन हर्ष का आया है
बड़े भाग्य से पाया है…
परमहंस पे कृपा तेरी
बटोही पे कृपा तेरी
बैकुंठ को पायेंगे
मेरे राम के स्वागत मे
अयोध्या को सजायेंगे…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह