लौट आए सिया राम अवध में (दिवाली)

लौट आये सियाराम अवध में ,लौट आये सियाराम।
जगमग जगमग कर रहा है ,आज अयोध्या धाम।।
लौट आये…..

कनक भवन में चमक रहे हैं ,हीरे पन्ने मोती।
अवधपुरी में राम नाम की ,जग रही घर घर जोती।।
स्वागत को सब ने हैं सजाये ,अपने अपने टाम।
लौट आये…..

चौदह बरस के बाद अवध में ,लौट खुशी फिर आयी।
द्वार द्वार पै दीपमाल अरु घर घर बजी बधाई।।
हर मन को आनंद मिला है ,मिले नैना अभिराम।
लौट आये…..

बजी दुन्दभी शंख नगारे ,बजे ढोल शहनाई।
झूम-झूम अरु नाच नाचकर ,गावे गीत खुदाई।।
मधुर मिलन की मंगल-बेला ,मिले भरत अरु राम।
लौट आये…..

गुरुजन परिजन ,पुरूजन गण गण ,खुश हैं मात-माताएं।
देव गगन सों सियाराम पर ,रंगरस फूल बरसायें।।
गूँज रहे जयकार ‘‘मधुप’’ हरि ,जय जय सियाराम।
लौट आये…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह