मनमोहन कब आओगे अखियां तरस रही कब दरस दिखाओगे……

मेरे हाथों में कलसा है
चलो सखी वन को चले, जहां राम जी का जलसा है,
मेरे मोहन कब आओगे, मनमोहन कब आओगे…..

मेरे हाथ में केला है,
चलो सखी वन को चले, जहां राम जी का मेला है,
मेरे मोहन कब आओगे, मनमोहन कब आओगे…..

मेरे हाथ में गीता है,
चलो सखी वन को चले, जहां राम जी की सीता है,
मेरे मोहन कब आओगे, मनमोहन कब आओगे…..

मेरे हाथ में तख्ती है,
चलो सखी वन को चले, जहां राम जी की शक्ति है,
मेरे मोहन कब आओगे, मनमोहन कब आओगे…..

मेरे हाथ में पेठा है,
सीता जी को ब्याहने चला श्री दशरथ का बेटा है,
मेरे मोहन कब आओगे, मनमोहन कब आओगे…..

मेरे हाथ में इमली है,
जनक के हल के तले सीता जी निकली हैं,
मेरे मोहन कब आओगे, मनमोहन कब आओगे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह