आज अयोध्या की गलियों में नाचे जोगी मतवाला,
अलख निरंजन खड़ा पुकारे देखो दशरथ के दवारा,
राम राम सियाराम बोलो बोलो राम राम सिया राम……

कांधे झोली टांगे बाबा हाथों में फूलों की माला,
झूम झूम कर नाचे जोगी राम के द्वारे मतवाला,
पैर के घुंघरू छम छम बाजे लेकर वैजयंती माला,
अलख निरंजन खड़ा पुकारे देखो दशरथ के दवारा……

अंग भभूति रमाए जोगी तन पे बाघाम्बर सोहे,
जटा जूट वाके सर पे सोहै भक्तों के मन को मोहे,
मस्तक चंदा जटा में गंगा, गले में सर्पों की माला,
अलख निरंजन खड़ा पुकारे देखो दशरथ के दवारा…..

माता कौशल्या द्वार पर आईं अपने राम को गोद लिए,
अति विभोर हो शिव योगी ने, बाल रूप के दर्शन किए,
चले हैं जोगी राम नाम कह कैलाशी शिव कैलाशा,
अलख निरंजन खड़ा पुकारे देखो दशरथ के दवारा

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह