मुझे कौन जानता था, तेरी बंदगी से पहले ।
मैं बुझा हुआ दिया था, तेरी बंदगी से पहले ॥

मैं तो खाख था जरा सी, मेरी और क्या थी हस्ती,
मैं थपेड़े खा रहा था, तूफ़ान में जैसे कश्ती,
दर दर भटक रहा था, तेरी बंदगी से पहले ॥

मुझे कौन जानता था, तेरी बंदगी से पहले ।
मैं बुझा हुआ दिया था, तेरी बंदगी से पहले ॥

मैं था इस तरह जहां में, जैसे खाली सीप होती,
मेरी बढ़ गई है कीमत, तूने भर दिए है मोती,
मेरा कौन आसरा था, तेरी बंदगी से पहले ॥

मुझे कौन जानता था, तेरी बंदगी से पहले ।
मैं बुझा हुआ दिया था, तेरी बंदगी से पहले ॥

है जहां में मेरे लाखो, पर तेरे जैसा कौन होगा,
जैसा तू बन्दा परवर, भला एसा कौन होगा,
मैं तुझे ही ढूंडता हूँ, तेरी बंदगी से पहले ॥

मुझे कौन जानता था, तेरी बंदगी से पहले ।
मैं बुझा हुआ दिया था, तेरी बंदगी से पहले ॥

तू जो मेहरबान हुआ है, तो जहां भी मेहरबान है,
ये ज़मीन मेहरबान है, आसमान भी मेहरबान है,
ना ये गीत ये बला था, तेरी बंदगी से पहले ॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह