राम राम रटते रहो
   तर्ज- तुम तो ठहरे परदेसी

राम राम रटते रहो, राम बन जावोगे।
अन्त समय राम के, राम धाम जावोगे।।

वेद भी न जान सके, ईश्वर की प्रभुताई को।
राम भी कहि न सके, राम नाम की बड़ाई को।।
फिर तुम भला राम का, पार कैसे पावोगे।
राम राम………….

राम आत्मा राम है, हर मन मन्दिर में बसे।
हरपल कृपा राम की, भीतर बाहर बसे।।
दर्शन तो तब होगा, जब उसे बुलावोगे।
राम राम………….

मानव धर्म राम का मर्यादा अवतार है।
दुनिया में श्री राम की, हो रही जय जयकार है।।
जीवन जीयो राम सा, राम कहिलावोगे।
राम राम………….

जीवन मरण सब का, श्रीराम के हाथ है।
जीवन के हर मोड़ पर, श्री राम का साथ है।।
सम्भल सम्भल चलना, वरना पछताओगे।
राम राम………….

रस मीठा है नाम का पी लो, जीभर कर पी लो।
रामदास बनकर ‘‘मधुप’’ जी लो जीभर जी लो।।
कर लो भजन राम का, सब सुख पावोगे।
राम राम………….।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह