राम मेरी सच्ची सरकार
धुनः- दिल के अरमा आंसुओं में बह गए

राम ही मेरी सच्ची सरकार है।
राम बिन सूना सूना संसार है।।

शाहों का शाह पातशाह संसार का।।
राम ही इस जगत का आधार है- राम…..

अविनाशी निरभौ राम निरवैर है।।
घट घट बासी घट घट जाननहार है-राम…..

सर मेरा दर दर पै झुक सकता नहीं।।
झुकता केवल राम के दरबार है-राम….

दुनियां का दाता ‘‘मधुप’’ इक राम है।।
राम ही हम सब का पालनहार है-राम….।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह