आज अवध में उत्सव भारी, घी के दीप जलाए हैं ।
छम छम नाचे बजरंगी, श्री राम अयोध्या आए हैं।

  1. दीन-दयाल दया के सागर सबको गले लगाते हैं।
    जिसपर तेरा नाम लिखा वो पत्थर भी तर जाते हैं
    छोड़ के झूठी दुनिया सारी, शरण तुम्हारी आए हैं।
    छम छम नाचे…
  2. कब से शबरी बाट निहारे आज घड़ी वो आई है,
    पाकर सम्मुख अपने राम को मन ही मन हर्षाई है।
    तेरे मिलन के ख़ातिर ही, थोड़े से साँस बचाये हैं।
    छम छम नाचे…
  3. असुवन जल से चरण पखारूँगा मैं मेरे राम के,
    जन्म सफल हो जाए दर्शन पाकर पावन धाम के।
    “पाल” विशाल सजी है झाँकी, फूलों से महकाए हैं।
    छम छम नाचे…
Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह