जब सिर पर तेरा हाथ राम मैं क्यों डोलू,
जब मिल गया तेरा साथ राम मैं क्यों डोलू,

ये नैया राम हवाले है,
पग पग पर आप संभालें है,
मेरी टेक एक रघुनाथ नाथ, मैं क्यों डोलू,
जब सिर पर ….

तू रहबर है तो किस का डर है,
पग पग पर स्वामी ईश्वर है,
मेरी बिगड़ी बना दो बात, नाथ मैं क्यों डोलू…

पंहुचा दे कभी किसी तट पर,
जीवन घट पर या मरघट पर,
सब ओर तेरा है साथ, नाथ मैं क्यों डोलू…

जग रूठा हो तो रुठन दे,
पर अपनी तार ना टूटन दे,
निर्दोष तुम ही पितु-मात, नाथ मैं क्यों डोलू…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह