लगा दी अर्जी,
अब आगे बजरंगबली की मर्जी,
जो होगा सो देखा जायेगा,
अब आगे बजरंगबली की मर्जी…….

आपने राम के काज किये,
मेरी भी लाज रखों ना,
दर दर मैं भटका हु,
झोली मेरी भर दोना,
कर दो भला मेरे दाता,
बड़ी उम्मीद से लगाई अर्जी……

क्या माया क्या संसार,
दे दे अपनी भक्ति का दान,
अपनी शरण मे बुलालो,
हे बलवीरा जय हनुमान,
राह दिखोओ हनुमन्ते,
छोड़ दी मै ने सारी खुदगर्जी……….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह