नैनन में बसी है सुरतिया तुम्हारी,
करू दिन रात भोले मैं पूजा तुम्हारी,
बम भोले,, तू मन को भाये,
कण कण में तू ही समाये……

मैं तो भोले तेरे खातिर,
रहता हूँ हरदम ही हाज़िर,
जबसे भोले तुझको ध्याया है,
मैंने सब कुछ तुमसे पाया है,
तुम्ही से दिल को लगाए,
कण कण में तू ही समाये,
बम भोले तू मन को भाये…..

तुझे समपृत सब कुछ किया है,
कुछ नहीं मेरा सब तेरा है,
तू ही मेरा विश्वास है,
तुझसे ही सब आस है,
ये आशा,, टूट ना पाए,
कण कण में तू ही समाये,
बम भोले तू मन को भाये…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह