हथ जोड़ के बेह गया हूँ मैं
बस एह अरदासा करदा
रोटी खा लै ठाकुरा
वे मियन मिनता तेरिया करदा

सजर सुई गाऊ लवेरी,
तेरे बदले दे के आया
लख पंडित दिया मिनता करके
तेनु अपने घरे लिआया
ओह ता नाह नाह करदा सी
ओ मेरा बिन ठाकुर ना सरदा
रोटी खा लै ठाकुरा …………

मैं सवेर तो तेरिया मिनता करदा
तू मेनू किना होर सताऊना
मैं वी केह्डा तेरे बांगु वेहला
हाले खेता नु पानी लाऊना
मेरे बलद वी सारे भूखे
तू काह्तो तरस जरा ना करदा
वे रोटी खा लै ठाकुरा …………

समझ गया मैं तू ठाकुरा,
घर उचिया दे खाने खावे
मेरे जट गरीब जेहे दा
तेरे खाना मेच न आवे
तू हल वेखी राह खानिया किते
आह न मेरी रोटी वल नु करदा
रोटी खा लै ठाकुरा …………

आखिरी गल मेरी सुन लै तू ठाकुरा
ना मैं कोई चुस्त चलाकिया जाना
जे तू आडिया न छड़ीआ वेख लई
फिर गुसा मेनू वी आ जाना
फेर मनीष टपरिया लिख दयो न
तेरी बैठ गुलामी करदा
रोटी खा लै ठाकुरा …………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह