मेरे भोले बाबा आ गया तेरा सावन का मेला,
लग रही हरिद्वार में भीड़, आ रहया भगतो का रेला,
भोले डमरू बजादे, इकबे आगे बढ़के,
मेरे भोले बाबा आजा, नन्दी पे चढ़ के…..

भोले तेरे हरिद्वार की महिमा बड़ी न्यारी,
हर साल यहाँ कावड़िया की भीड़ लगे हैं भारी,
ये तो फेरे तेरी माला भोले साँझ तड़के,
मेरे भोले बाबा आजा, नन्दी पे चढ़ के…..

बम बम बोल के ढोल नगाड़े D.J खूब बजाते,
होके मस्त तेरी मस्ती में भोले रंग जमाते,
ये तो नाचे कूदे गावे तेरे पाया में पड़ के,
मेरे भोले बाबा आजा, नन्दी पे चढ़ के…..

तीन लोक के पालन हारी हे शंकर त्रिपुरारी,
सारे जग में तेरे नाम की गूँज रही किलकारी,
ये ‘बेबी’ तेरे भजन लिखे मोह माया छोड़के,
मेरे भोले बाबा आजा, नन्दी पे चढ़ के…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह