खेले ब्रज में रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी,
राधे संग श्याम बिहारी,
राधे संग श्याम बिहारी,
खेले ब्रज मे रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी…….

मेरी राधा छुप छुप जावे,
जद कान्हो रंग लगावे,
कर दी ब्रज में आज धमाल,
राधे संग श्याम बिहारी,
खेले ब्रज मे रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी…….

गोपी और ग्वाल भी खेले,
जैसे खुशियों के मेले,
लगती जोड़ी खूब कमाल,
राधे संग श्याम बिहारी,
खेले ब्रज मे रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी…….

घनश्याम की मुरली बाजे,
मेरी राधा छम छम नाचे,
मिलावे दोनों ताल से ताल,
राधे संग श्याम बिहारी,
खेले ब्रज मे रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी…….

दोनों का प्रेम अनूठा,
बाकी सारा जग झूठा,
उड़ावे प्रेम को रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी,
खेले ब्रज मे रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी…….

अब श्याम भरोसे जीवन,
राधे को सबकुछ अर्पण,
(सोनी) करसि तने निहाल,
राधे संग श्याम बिहारी,
खेले ब्रज मे रंग गुलाल,
राधे संग श्याम बिहारी…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह