के सारे हार गये जोर लगाये कर के,
भोले नाथ ने कर दिया काम डमरू भजाये कर के…….

पलक जपते करे करिश्मा ऐसा जादूघर है,
किस्मत के कल पुरजे बदले ऐसा कारीगर है,
काम चाहे जैसा हो ये करता दिखाई कर के,
भोले नाथ ने कर दिया काम डमरू भजाये कर के……..

ऐसा जोगी ऐसा मगारी ऐसा मस्त कलंदर,
अपने ये दरबार लगाये श्मशानों के अंदर,
बदन पे मुर्दे की बसम रमाये कर के,
भोले नाथ ने कर दिया काम डमरू भजाये कर के……

इस के आगे सेठ करे क्या पगड़ी टोपी वाला,
सब पे भारी पड़ जाता है सेठ लंगोटी वाला,
ये नाम कमाया है माल लुटाई कर के,
भोले नाथ ने कर दिया काम डमरू भजाये कर के…..

इसको अगर न दातार कहे तो ये अपमान है इसका,
जितने भी दातार जग में ये भगवन उसका,
छोड़ दियां वनवारी सेठ बनाये कर के,
भोले नाथ ने कर दिया काम डमरू भजाये कर के..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह