देखो अमरनाथ विच जाके,
भोला बैठा बर्फ जमा के,
लप लप भंग दे गोले खा के,
धूनी तप्दी जांदी आ,
नाम तेरे दी मस्ती,
भोलेया चढ़दी जांदी आ……

गल विच पाया नाग मोटा,
हाथ विच फड्या कुंडी सोटा,
नाले पाया इको लंगोटा,
धूनी तप्दी जांदी आ,
नाम तेरे दी मस्ती,
भोलेया चढ़दी जांदी आ……

गौरा कदम कदम ते रोवे,
भोला सारी रात ना सोवे,
ना नाहवे ना मुह धोवे,
गंगा वगदी जांदी आ,
नाम तेरे दी मस्ती,
भोलेया चढ़दी जांदी आ……

जेहड़ा ले आवे आक धतूरा,
उसदा होवे मनोरथ पुरा,
झोली भरदी जांदी आ,
नाम तेरे दी मस्ती,
भोलेया चढ़दी जांदी आ……

संगत दुरो दुरो आवे,
लोटा भर भर जल चढ़ावे,
महिमा सारे तेरी गावे,
मस्ती चढ़दी जांदी आ,
नाम तेरे दी मस्ती,
भोलेया चढ़दी जांदी आ……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह