हमे धन दौलत की चाह नहीं, हम शिव के चेले है,
हमे दुनिया की परवाह नहीं, हम शिव के चेले है,
शिव के चेले है, हम शिव के चेले है,
हमे धन दौलत की चाह नहीं, हम शिव के चेले है……

भस्म रमाये तन पर शिव शम्भु तो वन वन घूमे,
लगा दे आसन जहा वहा लग जाते मेले है,
हमे धन दौलत की चाह नहीं, हम शिव के चेले है……

महादेव के नाम की हमको ऐसी लगन लगी है,
शिव रहते हमारे साथ, नहीं हम रहते अकेले है,
हमे धन दौलत की चाह नहीं, हम शिव के चेले है……

स्वर्ग नहीं बैकुंठ नहीं ना मोक्ष की हमको आशा,
शिव के सिवा कोई राह नहीं बस पड़े झमेले है,
हमे धन दौलत की चाह नहीं, हम शिव के चेले है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह