चंदन चावल बेल की पतिया,
शिव जी के माथे धरो, हे भोलानाथ दिगंबर,
ये दुख मेरे हरो, हरो रे….

अगर चंदन का बश्म चढ़ाउ, शिव जी के पैयाँ पडु,
नंदी उपर स्वार भयो रामा, मस्तक गंगा धरो,
ये दुख मेरे हरो……

शिव शंकर जी को तीन नेत्र हैं, अद्भुत रूप धरो,
अर्धंगी गौरी पुत्र गजानन, चंद्रमा माथे धरो,
ये दुख मेरे हरो…

आसन दाल सिंहासन बैठे, शांति समाधि धरो,
कंचन थाल कपूर की बाती, शिव जी की आरती करो,
ये दुख मेरे हरो…..

मीरा के प्रभु गिरधरनागर चरणो में शीश धरो,
हे भोलानाथ दिगंबर मोरे, ये दुख मोरे हरो,
सब दुख मोरे हरो…..

चंदन चावल बेल की पतिया, शिव जी के माथे धरो,
हे भोलानाथ दिगंबर सब दुख मोरे हरो रे…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह