चलो भोले के दरबार, आया सावन का सोमवार,
भक्त निकले है हज़ार, महिमा इनकी है अपरम्पार,
चलो भोले के दरबार……

देखो गौरी इनके साथ, डमरू है इनके हाथ,
है त्रिशूल ये धारी, कहलाये भोलेनाथ,
होके नंदी पे सवार, बहती जटा में गंगा धार,
चलो भोले के दरबार……

चलो भोले के दरबार, आया सावन का सोमवार,
भक्त निकले है हज़ार, महिमा इनकी है अपरम्पार,
चलो भोले के दरबार……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह