( ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्,
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्॥ )

गले में जिसके नाग,
सर पे गंगे का निवास,
जो नाथो का है नाथ,
भोलेनाथ जी…..

करता पापो का विनाश ,
कैलाश पे निवास,
डमरू वाला वो सन्यास,
भोलेनाथ जी…..

मोह माया से परे,
तेरी छाया के तले,
जो तपता दिन रात,
उसको रौशनी मिले,
केदार विश्वनाथ,
मुझको जाना अमरनाथ,
जहा मिलता तेरा साथ,
भोलेनाथ जी…..

जो फिरता मारा मारा,
जिसको देता वो सहारा,
तीन लोक का वो स्वामी,
भोलेनाथ जी…..

रख दे जिसके सर पे हाथ,
दुनिया चलती उसके साथ,
ऐसा खेल है खिलाता,
मेरा नाथ जी….

मोह माया से परे,
तेरी छाया के तले,
जो तपता दिन रात,
उसको रौशनी मिले,
केदार विश्वनाथ,
मुझको जाना अमरनाथ,
जहा मिलता तेरा साथ,
भोलेनाथ जी…..

ये दुनिया है भिखारी,
पैसे की मारी मारी,
मेरा तू है सहारा,
मेरे भोलेनाथ जी…..

मेरा हाथ ले तू थाम,
बाबा ले जा अपने धाम,
इस दुनिया से बचा ले,
मुझको शम्भू नाथ जी…..

मोह माया से परे,
तेरी छाया के तले,
जो तपता दिन रात,
उसको रौशनी मिले,
केदार विश्वनाथ,
मुझको जाना अमरनाथ,
जहा मिलता तेरा साथ,
भोलेनाथ जी…..

तेरा रूप है प्रचण्ड,
तू आरम्भ तू ही अंत,
तू ही सृष्टि का रचियता,
मेरे भोलेनाथ जी….

में खुद हु खंड खंड,
फिर कैसा है घमण्ड,
मुझे तुझमे है समाना,
मेरे भोलेनाथ जी…..

मोह माया से परे,
तेरी छाया के तले,
जो तपता दिन रात,
उसको रौशनी मिले,
केदार विश्वनाथ,
मुझको जाना अमरनाथ,
जहा मिलता तेरा साथ,
भोलेनाथ जी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह