नी गौरा तेरा पती देखेया,
धरती नू असी मथा टेकेया,
बड़ा कम होया नुकसान दा। )
गौरा नू सखियाँ छेड़दिया, लाड़ा नहीं तेरे हान दा,
तू महला दी रानी नि ओ रेहन वाला शमशान दा,
गौरा नू सखियाँ छेड़दिया, लाड़ा नहीं तेरे हान दा…..

डर लगदा ओहनू वेख के ओह्दी सूरत बड़ी न्यारी है,
तन ते भस्म रमाई किती, बैल दी असवारी है,
ओहदे गल विच फनियर लमके ओ ता वैरी तेरी जान दा,
गौरा नू सखियाँ छेड़दिया, लाड़ा नहीं तेरे हान दा…..

जा के कहदे बाबुल नू हुन, मैं नी ब्याह करवाउना ए,
घर विच रख लै मैनु जे तै बुड्ढे दे लड़ लाउना ए,
चंगा वर लब लैंदा फेर ता एहो विचोला पाउन दा,
गौरा नू सखियाँ छेड़दिया, लाड़ा नहीं तेरे हान दा…..

ओह चंगा है जा माड़ा है मेरे दिल दिया जानन वाला है,
ओह मालक त्रिलोकी दा कुल दुनिया दा रखवाला है,
उसदी माया ओहि जाने, जा दिल मेरा जान दा,
गौरा केहन्दी सखियाँ नू मेरा पति रूप भगवान दा,
गौरा नू सखियाँ छेड़दिया, लाड़ा नहीं तेरे हान दा…..

मेरी किस्मत सब तो चंगी है, जो नाल ओहदे मैं मंगी है,
रिंकू चंदेयानी आखे जींद मेरी, ओहदे रंगा विच रंगी है,
धुलु हकला कहे नी मौजा, नाम ओहदे ते मान दा,
गौरा केहन्दी सखियाँ नू मेरा पति रूप भगवान दा,
तू महला दी रानी नि ओ रेहन वाला शमशान दा,
गौरा नू सखियाँ छेड़दिया, लाड़ा नहीं तेरे हान दा…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह