शम्भू शम्भू कहती रहे मेरी ये जुबान,
नाम तेरा भोले मेरी साँसों में बसा……..

तुम त्रिपुरारी भोले शंकर,
और शीश में राजे गंग लहर,
गल सर्पो की माला लेकर हे,
अविनाशी जय महेश्वर,
तुम भोले मेरी जान हो,
शम्भू शम्भू कहती रहे मेरी ये जुबान,
नाम तेरा भोले मेरी साँसों में बसा….

क्या रूप भोले बाबा,
गल में सर्पो की माल सजी,
तन भस्मी रमाये रहते हो,
सर जूट जटाये गंग चढ़ी,
करते हो सफर जय नागेश्वर,
बम बम लेहरी भोले शंकर,
शम्भू शम्भू कहती रहे मेरी ये जुबान,
नाम तेरा भोले मेरी साँसों में बसा….

तीन आप धतूरा खाते हो,
पीते हो भंग भरा प्यारा,
मद मस्ती भरा जो आलम हो,
नाचे शिव हो के मतवाला,
टेडी हो नज़र बरपा दे केहर,
बम बम लेहरी भोले शंकर,
शम्भू शम्भू कहती रहे मेरी ये जुबान,
नाम तेरा भोले मेरी साँसों में बसा…..

संतो के संताप हरे भोले भंडारी अविनाशी,
भोलेपन में बह जाते है सेह जाते पर हित प्याला जी,
पीकर के जहर हो जाते अमर,
बम बम लेहरी भोले शंकर,
शम्भू शम्भू कहती रहे मेरी ये जुबान,
नाम तेरा भोले मेरी साँसों में बसा…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह