आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

नाम हरी का साथ जायेगा
और तू कुछ ना ले पायेगा
आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

राग द्वेष में हरी बिसरायो
भूल के निज को जनम ग
आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

नाम हरी का साथ जायेगा
और तू कुछ ना ले पायेगा
आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

सुमिरन की साची कमाई
झूठी जग की सब है सगाई
आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

अर्जी कर तू हरी से ऐसी
भक्ति मिले मीरा की जैसी
आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

हाथ तेरे जीवन की बाज़ी
भक्ति से कर तू हरी को राज़ी
आएगा जब रे बुलावा हरी का
छोड़ के सब कुछ जाना पड़ेगा

नाम हरी का साथ जायेगा
और तू कुछ ना ले पायेगा
आएगा जब रे बुलावा हरी का…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह